Close
  • +91-9814181255
  • helpline@medshopi.com

April 8, 2018

Papita aur iski patti se swaasthay aur saundarya ko laabh | पपीता और इसकी पत्ती से स्वास्थ्य और सौंदर्य को लाभ

पपीते का उपयोग पारंपरिक रूप से त्वचा और स्वास्थ्य की विभिन्न समस्याओ को दूर करने करने लिए किया जाता है|  यह विटामिन्स और मिनरल्स का अच्छा स्रोत है  | पपीते के पत्तो का जूस भी सेहत के लिए बहुत लाभकारी होता है इसमें औषधीय गुण होते है | इसका जूस शरीर में रोगप्रतिरोधक क्षमता को बढाता है | शायद आपको जानते नहीं होगे पपीते के बीज भी सेहत के लिए बहुत उपयोगी है | इसके बीज का स्वाद कुछ कुछ काली मिर्च जैसा लगता है खाने में | पके हुए पपीते के साथ कच्चे पपीते के भी अपने फायदे है | Papita aur iski patti se swaasthay aur saundarya ko laabh.

 

 

आईये जानते है पपीते और इसकी पत्तियों में पाए जाने वाले गुण | Papita aur iski patti se swaasthay aur saundarya ko laabh.

 

  1. पर्याप्त एंटीऑक्सीडेंट:

गाजर की तुलना में इस फल में बीटा कैरोटिन की मात्रा बहुत अधिक होती है | सूखे पपीते में बहुत एंटीऑक्सीडेंट होता है यह प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत बनाता है |

 

  1. फाइबर की मात्रा:

पपीता फाइबर का एक बहुत अच्छा स्रोत है | यह पाचन क्रिया को मजबूत बनाता है और त्वचा को सुन्दर बनाता है |

 

  1. मिनरल्स और विटामिन्स:

इसमें अधिक मात्रा में विटामिन C पाया जाता है , जो की एंटीआक्सीडेंट बहुत अच्छा स्रोत होता है | यह त्वचा में घाव भरने में भी सहायता करता है | इसमें मिनरल्स होते है , जैसे : पोटेशियम , फॉस्फोरस, आयरन , कैल्शियम , मैगनिशियम, मैंगनीज आदि | स्वास्थ्य बनाये रखने के लिए विटामिन A और फॉस्फोरस की जरूरत ह्रदय को स्वस्थ रखने के लिए होती है |

 

आईये जानते है पपीता और इसकी पत्तियों से होने वाले लाभ : Papita aur iski patti se swaasthay aur saundarya ko laabh.

 

     1. पेट को दुरुस्त रखने के लिए:

Papita aur iski patti se swaasthay aur saundarya ko laabh

पपीता पाचन क्रिया को मजबूत बनाता है| इसमें पपेन पदार्थ और पर्याप्त पानी होता है| जो भोजन को पचाने में मदद करता है | इसमें फाईबर और एंजाइम्स होते है जो पाचन क्रिया को स्वस्थ रखते है | पपीता खाने से कब्ज की समस्या भी दूर होती है |

 

 

 

     2. डिलीवरी के बाद:

Papita aur iski patti se swaasthay aur saundarya ko laabh

महिलाए बच्चे के जन्म होने के बाद पपीता खाये तो इससे दूध में वृद्दि होती है | डॉक्टर भी डिलीवरी के बाद पपीता खाने के लिए सुझाव देते है |

 

 

    3. ह्रदय को स्वस्थ रखने में :

Papita aur iski patti se swaasthay aur saundarya ko laabh

पपीता में एंटीआक्सीडेंट और फाइबर दिल की बीमारी , डायबीटीज , कोलेस्ट्रोल के खतरे को कम करते है | यह ह्रदय की रक्त कोशिकाओ में वसा को जमा होने से रोकता है | जिसके कारण ह्रदय में कोई रोग होने की सम्भावना कम हो जाती है | पपीता यह उच्च रक्त चाप को कम करता है |पपीता में शूगर की मात्रा कम होती है इसलिए डायबीटीज के मरीजो के लिए यह अच्छा होता है | जीन लोगो को डायबीटीज नहीं है उनमे डायबीटीज होने का खतरा कम होता है | Papita aur iski patti se swaasthay aur saundarya ko laabh

 

 

 

   4. मासिक धर्मं में :

Papita aur iski patti se swaasthay aur saundarya ko laabh

बहुत सी महिलाओं को अनियमित मासिक धर्म और मासिक धर्म में पेट दर्द की समस्या होती है| पपीते का नियमित सेवन करने से पेट दर्द की समस्या में आराम मिलेगा , और मासिक धर्म का समय नियमित रहेगा|

 

 

 

 

   5. सौदर्य के लिए पपीते के लाभ:Papita aur iski patti se swaasthay aur saundarya ko laabh

पपीते का उपयोग सौंदर्य बढाने के लिए भी किया जाता है|  पपीते में मौजूद विटामिन A और पपैन प्रोटीन त्वचा से मृत कोशिकाओं को हटाते है | रोम छिद्रों को साफ़ करता है | और जुर्रिया कम करता है | अगर आप कच्चा बारीक पिसा हुआ कच्चा पपीते का पेस्ट चेहरे पर लगाए तो यह त्वचा में असामनता और मुहासों को दूर करता है| इसके सेवन से शरीर में पानी की कमी दूर होती है जिससे त्वचा में चमक आती है | त्वचा से शुष्कता और झुर्रिया दूर होती है | पके हुए पपीते को पिस ले और इसमें शहद मिला कर इसको अपने चेहरे पर लगाए | यह आपके चेहरे में नमी बनाये रखेगा|

 

  6. आँखों के लिए:

Papita aur iski patti se swaasthay aur saundarya ko laabh

पपीता आँखों के लिए बहुत लाभदायक है| यह आँखों और द्रष्टि को स्वस्थ बनाता है| पपीते में ल्युटेन और जेक्सैथीन की अधिकता होती है| यह मोतियाबिंद और आँखों की पुरान बीमारी की समस्याओ से आँखों को बचाता है |Papita aur iski patti se swaasthay aur saundarya ko laabh

 

 

  7. प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत बनाने में :

Papita aur iski patti se swaasthay aur saundarya ko laabh

कच्चा पपीता भी स्वास्थ्य के लिए बहुत लाभकारी होता है | इसमें पपेन की मात्रा पके हुए पपीते की तुलना में अधिक होती है | यह शरीर में सफ़ेद रक्त कोशिकाओं को बनाने में सहायता करता है | शरीर में सर्दी, खासी और फ्लू से लड़ने की क्षमता को बढाता है | पीलिया रोग से लड़ने के लिए कच्चे पपीते का सेवन बहुत उपयोगी है| यह शरीर में पीलिया से लड़ने के लिए क्षमता बढाता है | इसको कच्चा या उबाल कर पीलिया के रोगी को दिया  जाता है |

 

   8. वजन घटाने में :

 

Papita aur iski patti se swaasthay aur saundarya ko laabh

कच्चा पपीता वजन घटाने में बहुत सहायक है | इसमें भरपूर मात्रा में विटामिन्स और एंजाइम्स होते है वजन कम करने में सहायक होते है | इसके लिए आप पपीते का जूस पी सकते है और सलाद में भी पपीते को ले सकते है |

 

    9. घाव ठीक करने में :

Papita aur iski patti se swaasthay aur saundarya ko laabh

पपीते में पाया जाने वाला पपैन त्वचा में घाव् को जल्दी भरने में सहायता करता है | इसके साथ त्वचा का जलना और त्वचा पर निशान को ठीक करने में बहुत उपयोगी होता  होता है| यह त्वचा से मृत कोशिकाओ को हटाकर घाव भरने में  मदद करता है |

 

    10. स्वास्थ्य के लिए पपीते के बीज के लाभ:

Papita aur iski patti se swaasthay aur saundarya ko laabh

पपीते के बीज में पोषक तत्व होते है जो जिगर और लीवर को स्वस्थ रखते है | यह जोडो में सूजन और गठिया की समस्या को दूर करता है | इसमें पाया जाने वाला कार्बाइन नाम का alkaloid होता है जिससे पेट के कीड़े मरते है | पपीते के बीज का योग गुर्दे को स्वस्थ रखने में में किया जाता है इससे गुर्दे की विफलता कम होती है | पपीते के बीज शरीर में कैंसर कोशिकाओं और ट्युमर को बनने से रोकते है|

 

 

पपीते के पत्तियों के लाभ:Papita aur iski patti se swaasthay aur saundarya ko laabh

  1.   ह्रदय रोग में पपीते के पत्तियों को उबालकर इसका पानी पिने से आराम मिलता है, और घबराहट दूर होती है |
  2. डेंगू और मलेरिया में पपीते की पत्तियों का पानी बहुत लाभदायक होता है| | पपीते के पत्तो का रस शरीर में डेंगू और मलेरिया से लड़ने की क्षमता बढाता है| डेंगू और मलेरिया के मच्छर के काटने से शरीर में खून में तेजी से प्लेटलेट गिरने लगते है| इसके लिए पपीते के पतों को गिलोय के साथ पकाकर पीने से बहुत आराम मिलता है |
  3. परजीवियों से लड़ने में पपीते के पत्तो का पानी बहुत सहायक है  | यह कैंसर ,फंगस,परजीवी, वायरस सेल्स को बढ़ने से रोकती है|
  4. प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत बनाने में पपीते  के पत्तो का रस बहुत उपयोगी है | इसमें  कैंसर को रोकने वाले तत्व होते है| यह  को मजबूत बनाता है| ब्रैस्ट कैंसर ,सर्विकल कैंसर , फेफड़ो के कैंसर को को रोकने में मदद करता है|
  5. पपीते के पत्तियों में विटामिन प्रोटीन , कैल्शियम , कार्बोहाइड्रेट, कैलोरी, फास्फोरस जैसे पोषक तत्व होते है | इसमें पाया जाने वाला पपैन पाचन क्रिया में सहायक होता है |
  6.  पपीते के पत्तियों के रस में वायरल इन्फेक्शन से लड़ने के की क्षमता होती है जैसे सर्दी जुकाम आदि| पपीते की पत्तियों में से ज्यादा सामग्री होती हैं | प्रतिरक्षा प्रणाली को समर्थन करते है |
  7. त्वचा को स्वस्थ रखने में पपीते की पत्तियों का रस अच्छा होता है | इससे पिने से त्वचा स्वस्थ रहती है |
  8. एक्जीमा के उपचार में पपीते के पत्तो का रस  बहुत उपयोगी होता है | इसके पानी को प्रभावित क्षेत्र में लगाने से समस्या में आराम मिलता है |

 

Papita aur iski patti se swaasthay aur saundarya ko laabh लेकिन पपीते इसकी पत्तियों और बीज के सेवन में कुछ बातो का ध्यान रखना चाहिए| अगर इनकी सही मात्रा में सेवन न किया जाए तो इसके क्या प्रभाव होते है |

 

  1. गर्भवती महिलायों को पपीते और इसके बीज का सेवन नहीं करना चाहिए इसके सेवन से गर्भपात होता है |
  2. पपीते बीटा कैरोटिन पाया जाता है| पपीते को ज्यादा मात्रा में सेवन से हथलियो , आँखों व् तलवे का रंग पीला पड़ जाता है |
  3. पपीता में पाया पाए जाने वाले एन्जाईम में एलर्जी होती है| पपीते का अधिक सेवन करने से इससे विभिन्न श्वसन विकार हो सकते है |
  4.  महिलाए स्तन में दूध वृधि के लिए इसका सेवन करने से पहले डॉक्टर की सलाह जरुर ले| इसका कितनी मात्रा में सेवन करना है |
  5. जो लोग खून को पतला करने के लिए दवाईया खाते है उनको पपीता नहीं खाना चाहिए|
  6. चीते उम्र के बच्चे के लिए पपीता खाना उपयुक्त नहीं होता है |
  7. जब दस्त की समस्या हो तब पपीता नहीं खाना चाहिए|
  8. कब्ज में पपीता खाना बहुत उपयोगी होता है , लेकिन अधिक मात्रा में इसके सेवन से गलत प्रभाव पद सकता है |
  9. पपीते इसकी पत्तियों और बीज में कार्पैन बहुत मात्रा में होता है, जो एक anthelmintic alkaloid नाम का पदार्थ है| यह  पेट के कीड़ो को मारता है | कार्पायीन की अधिक मात्रा आपकी नाभि की दर को खतरनाक तरीके से कम कर सकती है | इससें आप गंभीर समस्या में जा सकते है |.

 

आज हमने आपको बताया की कैसे Papita aur iski patti se swaasthay aur saundarya ko laabh | साथ ही इसका सेवन करने में क्या किन बातो का ध्यान रखना चाहिए , सही मात्रा में सेवन करने से शरीर को कोई नुक्सान नहीं होगा |

 

आशा करते है हमारा ये पोस्ट Papita aur iski patti se swaasthay aur saundarya ko laabh आपको पसंद आया होगा |

 

ऐसी ही महत्वपूर्ण जानकारी के लिए Medshopi blog पर जाए |

धन्यवाद |

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *